स्टीव जॅाब्स ने कही थी तीन कहानियां – दूसरी कहानी

31 12 2011

स्टीव जॅाब्स की दूसरी कहानी जो उन्होंने 2005 में स्तान्फोर्ड विश्वविद्यालय (Stanford University) के क्रमागति समारोह (Graduation Ceremony) में पंद्रह मिनट के भाषण में कहा था | उसी प्रेरणादायक भाषण को हिंदी में अनुवादित करते हुए, एक free thinker को श्रद्धांजलि |

पहली कहानी पिच्छले पोस्ट में प्रस्तुत है |

आज 2011 का आखिरी दिन है – इसके बाद हमारे जीवन में 2011 कभी नहीं आएगा, कभी भी नहीं | 2011 स्टीव जॅाब्स की दूसरी कहानी से ख़त्म होगी | नए साल, 2012, की शुरुआत स्टीव जॅाब्स की आखिरी कहानी से होगी |

5:38   मेरी दूसरी कहानी love और loss के बारे में है |

5:44   मैं lucky था, कम उम्र में ही मैंने खोज लिया कि मुझे क्या बेहद पसंद है |

5:48   बीस साल की उम्र में Woz और मैंने Apple की शुरुआत मेरे माता-पिता के गैरेज में की थी |

5:51   हमने बहुत मेहनत की थी, और दस साल में Apple हम दो गैरेज-निवासी से

5:55   बढकर २०० करोड़ डालर (या २ अरब डालर) की कम्पनी, चार हज़ार कर्मचारी से भी ज्यादा की कंपनी बनी |

5:59   हमने अपनी सर्वोतम रचना Macintosh को समय-सीमा से

6:03   एक साल पहले निकाला और मैं उस वक़्त 30 वर्ष का हुआ |

6:06   और फिर उसके बाद मुझे कंपनी में से निकाल दिया गया |

6:09   अपनी बनाई हुई कंपनी से कौन निकाल सकता है?

6:12   जैसे-जैसे Apple बढा, हमने एक व्यक्ति को hire किया जिसे मैं

6:15   बहुत बुद्धिमान समझता था जो मेरे साथ मिलकर कंपनी को चलाये |

6:18   लेकिन हमारे विचार अलग होने लगे और

6:20   आखिर में हमारे बीच मतभेद हो गया |

6:25   Board of Directors ने मेरा साथ नहीं दिया |

6:29   तो 30 वर्ष कि उम्र में मैं निकाला गया – और बहुत सार्वजानिक रूप से निकाला गया |

6:32   जो मेरी पूरी ज़िन्दगी का धेय था, वह चला गया |

6:35   मैं बिखर गया था |

6:38   कुछ महीनो तक मुझे पता नहीं था कि मैं क्या करूँ |

6:41   मुझे लगा कि मैं पिछली पीडी के उद्यमी (entreprenuer) लोगों के नज़रों में खर्रा नहीं उतरा

6:43   मैंने उस मशाल को गिरा दी जो मुझे दी गयी थी |

6:47   मैं David Packard और Bob Noyce से मिला

6:50   और उनसे माफ़ी मांगने की कोशिश की |

6:54   मैं सार्वजनिक पराजय (public failure) बन चुका था |

6:55   और मैं मण्डी से भाग जाने के बारे में भी सोच रहा था |

6:58   लेकिन धीरे-धीरे मुझे यह ज्ञान होने लगा कि मैं जो काम करता था मुझे बहुत पसंद था |

7:03   Apple में जो बिता, वह इस चीज़ को डगमगा नहीं सका |

7:07   नकारने के बावजूद, मेरी मोहब्बत कम नहीं हुई |

7:12   और मैंने तय किया कि मैं फिर से शुरू करूँगा |

7:14   मैंने उस समय नहीं देखा था, मगर Apple से निकाले जाना – यह मेरे लिए सबसे अच्छा हुआ |

7:21   नौसिखिये के हल्केपन ने – फिर से – सफल होने के भारीपन की जगह ली,

7:26   सब चीज़ों के बारे में अनिश्चित |

7:27   इसने मुझे आज़ादी दी और मैं अपने ज़िन्दगी के सबसे रचनात्मक (creative) दौरों में से एक से होकर गुजरा |

7:31   आनेवाले पांच सालों में मैंने NeXT नाम की कंपनी और

7:34   Pixar नाम की कंपनी की शुरुआत की |

7:35   औरे एक अद्भुत (amazing) औरत के प्यार में पागल हो गया जो अब मेरी बीवी है |

7:39   Pixar ने विश्व की पहला computer animated

7:42   फिल्म Toy Story बनाई

7:44   और आज दुनिया का सबसे सफल animation स्टूडियो है |

7:49   विस्मयपूर्ण घटनाक्रम में, Apple ने NeXT को खरीद लिया |

7:53   मैं Apple में वापस आया और हमने NeXT में जो technology की तैयारी की,

7:56   वो आज Apple के परिवर्तन में अहम है |

7:59   और Laurene और मैं, हमारा एक प्यारा-सा परिवार है |

8:03   मैं काफी निश्चित रूप से कह सकता हूँ कि

8:05   यह सब नहीं होता अगर मैं Apple से निकाला नहीं गया होता |

8:08   वो एक कडवी दवा थी, मगर शायद रोगी को इसकी ही ज़रुरत थी |

8:12   कभी-कभी ज़िन्दगी तुम्हारे सर पर ईंट फेक कर मारती है | हार मत मानना |

8:18   मुझे पक्के से विश्वास है कि सिर्फ एक ही चीज़ मुझे आशा देती रही कि मैं जो काम करता था उससे मुझे

         मोहब्बत थी |

8:21   तुम्हे क्या पसंद है उसे हर हालत में खोजना चाहिए |

8:24   और यह जितना सच तुम्हारे काम के बारे में है उतना ही सच तुम्हारे प्रेमी के बारे में है |

8:28   तुम्हारा काम तुम्हारी ज़िन्दगी का एक बड़ा हिस्सा भर देता है |

8:30   और वास्तव में तुष्ट (satisfied) रहने के लिए सिर्फ एक ही रास्ता है –

8:32   वही करो जो तुम मानते हो कि महान काम है |

8:35   और महान काम करने के लिए सिर्फ एक रास्ता है – जो काम तुम करते हो उससे तुम्हे बेहद मोहब्बत हो |

8:38   जिस काम से तुम्हे मोहब्बत हो, अगर तुम्हे अभी तक नहीं मिला, तो खोजता रहो | समझौता मत करो |

8:43   दिल के हर मामले की तरह, तुम्हे पता चल जायेगा जब तुम्हे वह मिल जाएगी |

8:47   और, जैसे हर अच्छे रिश्ते की तरह,

8:49   यह समय के साथ बेहतर और बेहतर होता जाता है |

8:52   तो खोजते रहो, समझौता मत करो |

9:05   मेरी तीसरी कहानी मौत (death) के बारे में है |

आगे की आखिरी कहानी अगले पोस्ट में है |
नए साल, 2012, की शुरुआत स्टीव जॅाब्स की आखिरी कहानी से होगी |

Advertisements

क्रिया

Information

One response

1 01 2012
स्टीव जॅाब्स ने कही थी तीन कहानियां – आखिरी कहानी « Nitin Jalan

[…] दूसरी कहानी, 2011 को सलामी देते हुए आखिरी … […]

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s




%d bloggers like this: