स्टीव जॅाब्स ने कही थी तीन कहानियां – आखिरी कहानी

1 01 2012

स्टीव जॅाब्स की तीसरी कहानी जो उन्होंने 2005 में स्तान्फोर्ड विश्वविद्यालय (Stanford University) के क्रमागति समारोह (Graduation Ceremony) में पंद्रह मिनट के भाषण में कहा था | उसी प्रेरणादायक भाषण को हिंदी में अनुवादित करते हुए, एक free thinker को श्रद्धांजलि |

पहली कहानी पिच्छले पोस्ट में प्रस्तुत है |

दूसरी कहानी, 2011 को सलामी देते हुए आखिरी दिन को प्रकाशित हुआ जो यहाँ प्रस्तुत है |

 

नए साल, 2012, की शुरुआत स्टीव जॅाब्स की आखिरी कहानी से होगी |

 

9:05   मेरी तीसरी कहानी मौत (death) के बारे में है |

9:09   जब मैं सत्रह साल का था मैंने एक कहावत सुनी थी,

9:12   “अगर तुम हर दिन ऐसे जियो मानो वो आखिरी हो तो

9:15    एक दिन तुम पक्के सही होगे |

9:20    इससे मैं प्रभावी हुआ, और तब से, पिच्छले 33 वर्षों से,

9:25    मैं हर सुबह आईने में देखे कर

9:27    खुद से पूंछता हूँ, “अगर आज मेरी ज़िन्दगी का आखिरी दिन होता,

9:30    क्या मैं यह करता जो मैं आज करने जानेवाला हूँ?” |

9:34    जब कई दिनों के जवाब “नहीं” होते,

9:37    मुझे पता चलता मुझे कुछ बदलना होगा |

9:40    इस बात को याद रखना कि जल्द ही मैं एक दिन मर जाऊँगा

9:43    यह सबसे अहम हथियार मुझे मिला,  जिसने मेरे बड़े फैसले लेने में मदद की |

9:47    क्यूंकि करीब-करीब सारी चीज़ें, सारी बाहरी उम्मीदें, सारे अभिमान,

9:52    पराजय या शर्मिंदगी का डर –

9:54    ये सारी चीज़ें, मौत के सामने बस गिर जाती है,

9:58    रह जाती है जो असल में अहम है |

10:00  इस बात को याद रखना कि तुम एक दिन मर जाओगे –

10:03  मेरी जानकारी में सबसे बेहतरीन जरिया है जिससे कि – तुम्हारे पास कुछ खोने को है – इस जाल से बच सकोगे |

10:08      तुम पहले से ही नंगे हो | अपने दिल की बात न सुनने का कोई कारण नहीं है |

10:13      करीब एक साल पहले, मुझे कैंसर है यह पता चला |

10:16      सुबह के 7:30 बजे मेरा scan हुआ और

10:20      मेरे pancreas के tumor साफ़ दिखाई पड़ रहे थे |

10:23      मुझे पता भी नहीं था कि pancreas क्या होते है |

10:26      डॉक्टरों ने कहा कि जहां तक यह ऐसा कैंसर है

10:28      जिसका कोई इलाज नहीं है |

10:30      और मैं 3-6 महीनो से ज्यादा जीने की आशा न करूँ |

10:35      मेरे डॉक्टर ने सलाह दी कि मैं घर जाऊं और अपने काम को सम्भालूँ |

10:40      डॉक्टर के शब्दों का मतलब था कि मरने की तैयारी शुरू कर दो |

10:42      इसका मतलब अपने बच्चों को, कुछ ही महीनो में, वो बातें बताना

10:47      जिसके लिए तुम सोचते थे कि तुम्हारे पास आनेवाले 10 साल है |

10:51      इसका मतलब कि पक्के से पूरा काम करना

10:53      तांकि तुम्हारे परिवार के लिए यह मुश्किल न हो |

10:56      इसका मतलब कि अलविदा कहने का वक़्त हो गया |

11:01      मैं सारे दिन उस diagnosis के साथ जिया |

11:04      बाद में, शाम को, मेरी biopsy हुई

11:06      जिसमे एक endoscope को मेरे गले से नीचे उतारते हुए,

11:08      पेट से होकर, मेरे आँतों में, मेरे pancreas में

11:11      सुईं चुभाई और tumor के कुछ cells निकाले |

11:14      मैं बेहोश था, मगर मेरी बीवी वहाँ पर थी

11:18      और उसने मुझे कहा कि जब डॉक्टरों ने cells को microscope में देखा

11:21      तो वे रोने लगे क्यूंकि

11:24      वह एक असामान्य pancreatic cancer निकला जिसका इलाज surgery से हो सकता है |

11:29      मेरी surgery हुई और शुक्र है मैं अभी ठीक हूँ |

11:40      मैं मृत्यु के करीब इससे ज्यादा कभी नहीं गया |

11:43      और मैं आशा करता हूँ कि आनेवाले कुछ दशकों में मैं मौत के इतने ही करीब रहूँ |

11:46      क्यूंकि मैं इससे गुजर चूका हूँ,

11:48      मैं अब यकीन के साथ कह सकता हूँ –

11:51      मौत ज्यादा उपयोगी और कम बौद्धिक (intellectual) विचार है  –

11:55      कोई मरना नहीं चाहता |

11:58      जो स्वर्ग में जाने की बात करते हैं वे भी मरना नहीं चाहते |

12:02      इसके बावजूद मौत ऐसी मंजिल है जो हम सब के हिस्से में है |

12:06      कोई भी इससे भाग नहीं सका | और यह जैसा है वैसा ही होना चाहिए |

12:10      क्यूंकि मौत, जहां तक, जीवन की सबसे बड़ी एकमात्र आविष्कार है |

12:15      यह जीवन का change agent है |

12:16      यह पुराने को साफ़ कर, नए के लिए रास्ता बनाता है |

12:19      अभी आज जो नया है वो तुम हो, लेकिन एक दिन – आज से बहुत दूर नहीं –

12:24      तुम भी, धीरे-धीरे पुराने हो जाओगे और तुम्हे रास्ते से साफ़ कर दिया जायेगा |

12:28      इतना dramatic होने के लिए माफ़ी चाहता हूँ, लेकिन यह सच है | 

12:32      तुम्हारा समय सिमित है, तो दुसरे के जीवन को जी कर अपने जीवन को waste मत करो |

12:38      दुसरे के विचारों से निकली नीति और सिद्धांतों के जाल में मत फंसो |

12:40      दुसरो के opinions के शोर से, अपने अन्दर की आवाज़ को खोने मत दो |

12:46      और सबसे ज़रूरी बात

12:48      अपने दिल (heart) और अंतर्ज्ञान (intuition) को follow करने की हिम्मत रखो |

12:51      उन्हें, किसी तरह से पता है, असल में तुम क्या बनना चाहते हो |

12:55      बाकी सब तुच्छ है |

13:09      मैं जब छोटा था

13:11      तब The Whole Earth नाम की एक amazing magazine नकलती थी |

13:15      वो हमारे generation के मानो bible की तरह था |

13:18      इसकी रचना Stewart Brand नाम के आदमी ने Menlo Park में शुरू की थी |

13:21      और उसने इस magazine में अपनी कवितओं से जान भर दी थी |

13:25      यह 1960s के दशक की बात है,

13:27      computers और desktop publishing से पहले |

13:30      तो सब typewriters, scissors, और polaroid camera से बनाया जाता था |

13:34      मानो पन्नो पर google की तरह हो |

13:36      गूगल के आने के 35 साल पहले: यह सब आदर्शवादी था,

13:41      अच्छे tools और महान सोच से उमड़ रहा था |

13:45      Stewart और उसके team ने The Whole Earth के कई

13:47      प्रकाशन निकाले |

13:48      और फिर, जब दौर पूरा हो गया, उन्होंने आखिरी प्रकाशन निकाला |

13:53      यह 1970s की बात है और मैं तुम्हारे उम्र का था |

13:58      आखिरी प्रकाशन के back cover पर एक photograph थी –

14:00      लम्बे रास्ते पर उगता सूरज | highway पर जैसे होता है, उसकी तरह;

14:04      तुम्हे पता होगा अगर तुम adventurous हो |

14:08      उस फोटो के नीचे लिखा था: “Stay Hungry. Stay Foolish – भूखे रहो. भोले रहो |”

14:13      यह उनका आखिरी सन्देश था – भूखे रहो, भोले रहो – Stay Hungry. Stay Foolish |

14:18      और मैंने हमेशा अपने लिए यही चाहा |

14:23      और आज, graduate होनेपर तुम नए से शुरुआत करने वाले हो, मैं तुम्हारे लिए यही कामना करता हूँ |

14:28      भूखे रहो, भोले रहो – Stay Hungry. Stay Foolish |

14:31      आप सभी का बहुत धन्यवाद |

 

स्टीव जॅाब्स की तरह उनके प्रेरणादायक भाषण की समाप्ति 2012 की शुरुआत से हुआ |

 





स्टीव जॅाब्स ने कही थी तीन कहानियां – दूसरी कहानी

31 12 2011

स्टीव जॅाब्स की दूसरी कहानी जो उन्होंने 2005 में स्तान्फोर्ड विश्वविद्यालय (Stanford University) के क्रमागति समारोह (Graduation Ceremony) में पंद्रह मिनट के भाषण में कहा था | उसी प्रेरणादायक भाषण को हिंदी में अनुवादित करते हुए, एक free thinker को श्रद्धांजलि |

पहली कहानी पिच्छले पोस्ट में प्रस्तुत है |

आज 2011 का आखिरी दिन है – इसके बाद हमारे जीवन में 2011 कभी नहीं आएगा, कभी भी नहीं | 2011 स्टीव जॅाब्स की दूसरी कहानी से ख़त्म होगी | नए साल, 2012, की शुरुआत स्टीव जॅाब्स की आखिरी कहानी से होगी |

5:38   मेरी दूसरी कहानी love और loss के बारे में है |

5:44   मैं lucky था, कम उम्र में ही मैंने खोज लिया कि मुझे क्या बेहद पसंद है |

5:48   बीस साल की उम्र में Woz और मैंने Apple की शुरुआत मेरे माता-पिता के गैरेज में की थी |

5:51   हमने बहुत मेहनत की थी, और दस साल में Apple हम दो गैरेज-निवासी से

5:55   बढकर २०० करोड़ डालर (या २ अरब डालर) की कम्पनी, चार हज़ार कर्मचारी से भी ज्यादा की कंपनी बनी |

5:59   हमने अपनी सर्वोतम रचना Macintosh को समय-सीमा से

6:03   एक साल पहले निकाला और मैं उस वक़्त 30 वर्ष का हुआ |

6:06   और फिर उसके बाद मुझे कंपनी में से निकाल दिया गया |

6:09   अपनी बनाई हुई कंपनी से कौन निकाल सकता है?

6:12   जैसे-जैसे Apple बढा, हमने एक व्यक्ति को hire किया जिसे मैं

6:15   बहुत बुद्धिमान समझता था जो मेरे साथ मिलकर कंपनी को चलाये |

6:18   लेकिन हमारे विचार अलग होने लगे और

6:20   आखिर में हमारे बीच मतभेद हो गया |

6:25   Board of Directors ने मेरा साथ नहीं दिया |

6:29   तो 30 वर्ष कि उम्र में मैं निकाला गया – और बहुत सार्वजानिक रूप से निकाला गया |

6:32   जो मेरी पूरी ज़िन्दगी का धेय था, वह चला गया |

6:35   मैं बिखर गया था |

6:38   कुछ महीनो तक मुझे पता नहीं था कि मैं क्या करूँ |

6:41   मुझे लगा कि मैं पिछली पीडी के उद्यमी (entreprenuer) लोगों के नज़रों में खर्रा नहीं उतरा

6:43   मैंने उस मशाल को गिरा दी जो मुझे दी गयी थी |

6:47   मैं David Packard और Bob Noyce से मिला

6:50   और उनसे माफ़ी मांगने की कोशिश की |

6:54   मैं सार्वजनिक पराजय (public failure) बन चुका था |

6:55   और मैं मण्डी से भाग जाने के बारे में भी सोच रहा था |

6:58   लेकिन धीरे-धीरे मुझे यह ज्ञान होने लगा कि मैं जो काम करता था मुझे बहुत पसंद था |

7:03   Apple में जो बिता, वह इस चीज़ को डगमगा नहीं सका |

7:07   नकारने के बावजूद, मेरी मोहब्बत कम नहीं हुई |

7:12   और मैंने तय किया कि मैं फिर से शुरू करूँगा |

7:14   मैंने उस समय नहीं देखा था, मगर Apple से निकाले जाना – यह मेरे लिए सबसे अच्छा हुआ |

7:21   नौसिखिये के हल्केपन ने – फिर से – सफल होने के भारीपन की जगह ली,

7:26   सब चीज़ों के बारे में अनिश्चित |

7:27   इसने मुझे आज़ादी दी और मैं अपने ज़िन्दगी के सबसे रचनात्मक (creative) दौरों में से एक से होकर गुजरा |

7:31   आनेवाले पांच सालों में मैंने NeXT नाम की कंपनी और

7:34   Pixar नाम की कंपनी की शुरुआत की |

7:35   औरे एक अद्भुत (amazing) औरत के प्यार में पागल हो गया जो अब मेरी बीवी है |

7:39   Pixar ने विश्व की पहला computer animated

7:42   फिल्म Toy Story बनाई

7:44   और आज दुनिया का सबसे सफल animation स्टूडियो है |

7:49   विस्मयपूर्ण घटनाक्रम में, Apple ने NeXT को खरीद लिया |

7:53   मैं Apple में वापस आया और हमने NeXT में जो technology की तैयारी की,

7:56   वो आज Apple के परिवर्तन में अहम है |

7:59   और Laurene और मैं, हमारा एक प्यारा-सा परिवार है |

8:03   मैं काफी निश्चित रूप से कह सकता हूँ कि

8:05   यह सब नहीं होता अगर मैं Apple से निकाला नहीं गया होता |

8:08   वो एक कडवी दवा थी, मगर शायद रोगी को इसकी ही ज़रुरत थी |

8:12   कभी-कभी ज़िन्दगी तुम्हारे सर पर ईंट फेक कर मारती है | हार मत मानना |

8:18   मुझे पक्के से विश्वास है कि सिर्फ एक ही चीज़ मुझे आशा देती रही कि मैं जो काम करता था उससे मुझे

         मोहब्बत थी |

8:21   तुम्हे क्या पसंद है उसे हर हालत में खोजना चाहिए |

8:24   और यह जितना सच तुम्हारे काम के बारे में है उतना ही सच तुम्हारे प्रेमी के बारे में है |

8:28   तुम्हारा काम तुम्हारी ज़िन्दगी का एक बड़ा हिस्सा भर देता है |

8:30   और वास्तव में तुष्ट (satisfied) रहने के लिए सिर्फ एक ही रास्ता है –

8:32   वही करो जो तुम मानते हो कि महान काम है |

8:35   और महान काम करने के लिए सिर्फ एक रास्ता है – जो काम तुम करते हो उससे तुम्हे बेहद मोहब्बत हो |

8:38   जिस काम से तुम्हे मोहब्बत हो, अगर तुम्हे अभी तक नहीं मिला, तो खोजता रहो | समझौता मत करो |

8:43   दिल के हर मामले की तरह, तुम्हे पता चल जायेगा जब तुम्हे वह मिल जाएगी |

8:47   और, जैसे हर अच्छे रिश्ते की तरह,

8:49   यह समय के साथ बेहतर और बेहतर होता जाता है |

8:52   तो खोजते रहो, समझौता मत करो |

9:05   मेरी तीसरी कहानी मौत (death) के बारे में है |

आगे की आखिरी कहानी अगले पोस्ट में है |
नए साल, 2012, की शुरुआत स्टीव जॅाब्स की आखिरी कहानी से होगी |





कच्चे

5 11 2011

कच्ची धूप का सिरहाना लिए
उस मोड़ की पतली डगर
पिपली पेड़ का कोना लिए
दूर कहीं गोता लगाये

आओं चले हम
कहीं ऐसी नगर को
जहाँ अपनी ही दुनिया हो
अपनों में ही दुनिया हो

मीठी-मीठी सी खुशबू
घुली मिटटी का ओछा लिए
चुटकी भर सीत हवा, गुदगुदाए

वादियों से सिला रुस्तम कोहरा
धीमी-धीमी, धुंधली-धुंधली
ठहरा हुआ, सिमटा-सिमटा ये समा

रुके क्यों, क्यों थमे
थामे हाथों में हाथ, उगे

एक-एक कदम बुने उस कच्ची सड़क पर
सुरली डंडी पर तोड़ते दम
आए, हम आए लिप-लिपि सी बादलों को चीरकर

चांदी के चाँद को पीए
चांदनी के लेप से नहाए
कस-कसकर चूमे नरम रेशमी हवाएं
भर-भरकर सिसकती सिसकियाँ

सुनहरी धूप का कुल्हा किए
ज़िन्दगी जिंदादिली की गुन-गुन
महक कच्चे आम का
किर-किरहाये रूठे भुरे पत्ते

चले हम, फिर से, नज़र में धूल जिगर में गुब्बार लिए





तो शायद सुकून मिले

24 07 2010

कुछ यादें, कुछ बातें
छोड़ जाते हैं निशाँ

लम्बे वक़्त का मरहम
मगर चुभन जाती नहीं

भूलना चाहे, तो भूल जाते
मगर वो एहसास जाता नहीं

बीते पल फिर लौट आये
साए जैसे जाग जाए
इन्हें फिर दफना दूं
तो शायद सुकून मिले

घाव खुरेदें, लघु फूंट निकले
चोंट और दर्द ताज़ा हो गए
इन्हें फिर सह जाऊं
तो शायद सुकून मिले

वक़्त की नुकीली लहरें फिर टकराई
टूट गया बाँध
इन्हें फिर से बनाऊ
तो शायद सुकून मिले

कोशिश ही सहारा
बार-बार गिरना
और बार-बार उठना, दौड़ना

इस रफ़्तार की होड़ में, भीड़ की आड़ लिए
खुद से भागना – एक बेगाना, अनजाना

अब –
उन सायो से डर नहीं लगता
उन घावों की चुभन नहीं होती
वो बाँध भी नहीं टूटती

इन कोशिशों से, अब, थकान नहीं होती
तो, अब, शायद सुकून मिले?





प्रतिबिम्ब

21 05 2010

अकेलेपन के साए सच लगते हैं
इस अंधेर कमरे में कुछ ढूँढता
एक कदम लम्बे रास्ते
चले थे एक, निकले कई

थामे वक़्त का हाथ दूर निकल आये
अरसा लगता है पल-पल
पिछड़े मोड़ पर थमे थे
न मूड़ सके हम, रुके कई

यह कैसी है जंजीरें पैरों में
लिए फिरते है सीने से लगाये
अदा बन गयी है इसकी
उठा लिए हर बार, गिराए कई





द प्रिन्स (1532 में प्रकाशित)

23 05 2009
31 वर्षीय निकोलो माक्यावैली सन् 1500 में

31 वर्षीय निकोलो माक्यावैली सन् 1500 में

” द प्रिन्स ” इतालवी भाषा में लिखित एक राजनीतिक निबंध है | इसे निकोलो माक्यावैली ने सन् 1513 में लिखा था | इसका प्रकाशन माक्यावैली के मरने के पांच सालो बाद सन् 1532 में इटली के फ्लोरेंस राज्य में हुआ था |

“द प्रिन्स” की चर्चा करने से पहले निकोलो माक्यावैली की जीवनी पर प्रकाश डालना चाहूँगा |

माक्यावैली (May 3, 1469 – June 21, 1527) इतालवी (Italian) दार्शनिक, लेखक, और नेता थे| उन्हें आधुनिक राजनीति-विज्ञान (modern political science) का गुरु माना जाता है| पूर्वी देशो में उन्हें “पाश्चात्य चाणक्य” के नाम से जाना जाता है| वे फ्लोरेंतिन गणराज्य के राजदूत के सचीव थे| उन्होंने दर्शन-शास्त्र (philosophy), राजनीति, सेना (military) और राष्ट्रीय सुरक्षा (national defense) के ऊपर, अपने अनुभव के अनुसार, लेख लिखे है- “The Art of War” and “Discourses on Livy”.

माक्यावैली ने “द प्रिन्स” को शासन करने की वास्तविक मार्गदर्शिका के रूप में लिखा है | “द प्रिन्स”
फ्लोरेंस के राजा लोरेंजो दे मेदिची को समर्पित है और माक्यावैली ने अपनी लेख भेंट के रूप में प्रस्तुत की थी | “द प्रिन्स” काल्पनिक या दुर्बोध नहीं है बल्कि यह सरल और खरा निबंध है | माक्यावैली ने वास्तविक और सहज सलाह को प्रस्तुत किया है | उन्होंने अनेक विषयों पर चर्चा की है | उनमे से प्रमुख विषयों का सारांश प्रस्तुत है –

राजनीतिज्ञ और युद्घ-कला (Statesmanship and Warcraft) :

माक्यावैली का मानना था कि एक तंदरुस्त खड़ी सेना ही अच्छे कानून को जन्म दे सकती है | उनका
बहुचर्चित कथन था, “The presence of sound military forces indicate sound laws”. युद्घ के
प्रति माक्यावैली के विचार अलग थे | उनका मानना था कि राज्य के विकास के लिए युद्घ आवश्यक है
लेकिन निर्णायक नहीं | यानी केवल युद्घ विकास नहीं ला सकता | युद्घ में विजयी होना स्वस्थ राज्य
की नीव है | “द प्रिन्स” में विस्तार से लिखा है किस तरह राज्य को हड़पना चाहिए,  हड़प राज्यों की
जनता और मंत्रियों के साथ किस तरह पेश आना चाहिए ताकि वे आज्ञाकारी रहे और किस तरह अपने
राज्य के आतंरिक विद्रोह को रोकना चाहिए ताकि बाहरी युद्घ में अर्चाने न आये | माक्यावैली ने युद्घ में
जीतने के लिए केवल अस्त्र-शस्त्र और   प्रबल सेना की प्रशंसा नहीं की | जीतने की लिए – कुटिल निति
(diplomacy), घरेलु राजनीति (domestic politics), कुशल रणनीति (tactical strategy),
भौगोलिक कौशल (geographic mastery), और एतिहासिक विश्लेषण (historical analysis) – का
प्रयोग अत्यंत आवश्यक माना है |

मित्रभाव और नफरत (Goodwill and Hatred) :

राजा को गद्दी पर सालों जमे रहने के लिए अपनी प्रजा की नफरत से बचना चाहिए | यह ज़रूरी नहीं
कि राजा को अपनी प्रजा से प्यार मिले | वास्तव में सबसे अच्छा होगा यदि प्रजा अपने राजा से डरे |
नफरत राजा के दुश्मनों को सहायता दे सकती है जिससे राजा अपनी गद्दी खो सकता है | माक्यावैली
ने क्रूरता को इस्तेमाल करने की सलाह दी है यदि क्रूरता से राजा के मित्रभाव सलामत रहे | राजा का
मित्रभाव, यानि प्रजा का राजा के साथ होना, घरेलु विद्रोह और बाहरी आक्रमण के समय एकता
बरकरार रखता है | प्रजा का मित्रभाव मिलने से राज्य में खुशहाली फैले ऐसा ज़रूरी नहीं है | राजा का
मित्रभाव केवल एक राजनैतिक औजार है जिससे राजा, अपने राज्य में स्थिरता लाकर, अपना
शासनकाल बढाता है |

स्वतंत्र इच्छा (Free Will) :

माक्यावैली ने “शूरता” और “सौभाग्य” का उपयोग कई बार किया है | “शूरता” का तात्पर्य व्यक्तिगत
गुण और “सौभाग्य” का तात्पर्य मौका या संजोग | माक्यावैली विश्लेषित करते है कि राजा की सफलता
या विफलता उसके मन की इच्छा और उसके आस-पास की परिस्थिति परपर निर्भर करती है | माक्यावैली इच्छा और नियतिवाद (determinism) को तोलकर कहते है कि मनुष्य
का कर्म को नियंत्रित करता है – 50% सौभाग्य (यानी मौका या संजोग) और 50% इच्छा |
हलाकि दूरदर्शिता से मनुष्य संजोग के हेर-फेर से बचाव कर सकता है |  अतः माक्यावैली कहते है
कि मनुष्य अपना भाग्य प्रबल इच्छा से बनाता है मगर कुछ हद तक ही क्योंकि हालातों और
परिस्थितियों पर मनुष्य का जोर नहीं है |

धर्माचरण (Virtue) :

माक्यावैली धर्माचरण की परिभाषा देते है – धर्माचरण वो गुण है जिसकी लोग प्रशंसा करे, जैसे
दानशीलता, दुसरे का  दया-माया करना, इश्वर-भक्ति, सहानुभूति और करूणा | माक्यावैली कहते है कि
राजा को धर्मचारित दिखलाई पड़ने की  कोशिश करनी चाहिए मगर धर्म के लिए धर्म का पालन करना
राजा के लिए हानिकारक हो सकता है | धर्मचारित दिखलाई पड़ना चाहिए मगर धर्मचरित होना ज़रूरी
नहीं | प्रजा धर्माचरण को सरहाती है इसलिए उनके मित्रभाव को जीतने के लिए धर्मचारित दीखलाई
पड़ना राजा के लिए बेहतर होगा | यदि राजा पूरी निष्ठा से धर्म का पालन करे तो उसके लिए
हानिकारक है | राजा को पापाचरण का त्याग अवश्य नहीं करना चाहिए | पापाचरण जैसे क्रूरता और
बेईमानी के प्रयोग से  राज्य का भला हो सकता है | राजा को नहीं भूलना चाहिए कि प्रारंभिक क्रूरता
से राज्य को दीर्घ स्थिरता मिल सकती है | राज्य की भलाई और खुशहाली से भी अधिक महत्वपूर्ण है
राज्य की स्थिरता और एकता जो आंतरिक विद्रोह और बाह्य-आक्रमण से राज्य को बचा सकती है |

पापाचरण का अनुसरण केवल पापाचरण के वास्ते नहीं करना चाहिए | ठीक उसी प्रकार धर्माचरण का
पालन केवल धर्म के लिए नहीं करना चाहिए | राजा का हर कदम अपने राज्य की भलाई नहीं बल्कि
राज्य पर उस कदम का क्या असर पड़ेगा यह सोच कर उठाना चाहिए | राजा को नहीं भूलना चाहिए
कि प्रारंभिक क्रूरता से राज्य को दीर्घ स्थिरता मिल सकती है |  राजा को अपने निजी आचरण और
नीति से ऊपर उठकर, धर्माचरण और पापाचरण का पालन अपने राज्य के हेतु करना चाहिए |

मनुष्य की प्रकृति (Human Nature) :

माक्यावैली दृढ़ता से कहते है कि मनुष्य में ऐसे कई लक्षण है जो पैदायशी है | आम तौर पर हर
मनुष्य मतलबी होता है मगर  प्रेम या मोह जीता भी जा सकता है और जीतने के बाद हारा जा
सकता है  और हारने के बाद जीता भी जा सकता है | आम तौर पर लोग खुश और संतुष्ट रहते है
जब तक उनकी परिस्थिति में बदलाव नहीं आता | मनुष्य अपने समृधि के समय में  विश्वासी हो
सकता है और नहीं भी | मगर विपत्ति में फंसा मनुष्य तुंरत स्वार्थी, कपटी और फायदा उठाना वाला
बन जाता है | मनुष्य दुसरे मनुष्य की उदारता, हिम्मत और इश्वर-भक्ति की प्रशंसा करता है परन्तु
स्वयं नहीं पालान करता | आकांक्षा उन्ही मनुष्यों में पाया जाता है जिन्हें थोडी-बहुत सत्ता मिली हो |
आम जनता अपने स्टेटस में खुश रहती है और ऊँचे स्टेटस में जाने की अभिलाषा नहीं रखती |
मनुष्य किसी भी मदद का स्वाभाविक रूप से आभारी रहता है और इस बंधन को आसानी से नहीं
तोडा जाता | हलाकि वफादारी जीती और हारी जा सकती है और मित्रभाव (goodwill) भी |

माक्यावैली के ये थे कुछ प्रमुख विषयों के प्रसंग | “द प्रिन्स” में माक्यावैली ने प्रत्येक अध्याय
(chapter) में विस्तार से विषयों पर, ऐतिहासिक घटनाओ का उदहारण देकर, अपने तर्क को शसक्त किया है |

अगले पोस्ट में माक्यावैली के बहुचर्चित कथन (famous quotations) पर चर्चा होंगी | तब तक के लिए नमस्कार |





करियर

12 03 2009

सफ़र की क्या मंजिल हो

लहरों का क्या साहिल हो

माझी का क्या नाव हो

सपनो की क्या उड़ान हो

देखते थे यह सब ,सपनों में

सोचते थे यह सब, दिनों में

करते थे यह सब, खेलो में

सुनते थे यह सब, झुंडों में

किया क्या या यह क्या किया

सवाल था सीधा सा

किया वही जो सबने किया

क्या चाहा वोह न किया

पर किया वही जो सबने किया

देखो ,सुनो पर बोलो मत

घरों में लॉटरी आया

पैसे की जगह डिग्री लाया

अब आप भी बन सकते है म.बी.ऐ.

दीजे दो जवाब और १ लाख रुपये

किया वही जो सबने किया

वो माझी और लहरें फिर याद आये

कल के झुंड आज भी आये

सपनो की फूटी कटोरी में खून से लतपत अपनी कल्पना लाये