कटाक्ष Sarcasm

2 01 2010

आधुनिक युग का भारतीय

एक झुण्ड के आचरण या व्यवहार को  सभ्यता  कहते हैं | सभ्यता के शुरुआत में स्त्री-पुरुष की भूमिका (लिंग भूमिका) को परिभाषित किया गया था और स्त्री-पुरुष के कार्यों को प्रस्तावित कर, एक झुण्ड को समाज की संज्ञा दी गयी थी| जब यह झुण्ड बड़े होते गए तो  उनका खंडन कर छोटे झुण्ड बने जिन्हें परिवार की संज्ञा दी गयी | लिंग भूमिका  वही  रही |  समाज में लिंग भूमिका प्राकृतिक संयोग पर आधारित है | पुरुष में, प्राकृतिक रूप से, शारीरिक बल होता है – शिकार कर के झुण्ड के लिए भोजन लाना जिससे झुण्ड जीवित रह सके | यह पुरुषों की भूमिका बन गयी |  स्त्री में, प्राकृतिक रूप से, बच्चे पैदा करने की क्षमता होती है जिससे झुण्ड अविराम जारी  रहे |  कुछ समय बाद, स्त्री ने पालन-पोषण की भूमिका चुन ली | यह उस समय की बात है जब मानव गुफाओं में रहता था |  स्त्री-पुरुष की भूमिका जो प्रस्तावित की गयी वह नियम या कानून बन गया | गुफावासी स्त्रियों और पुरुषों की भूमिका एक  बुनियादी समझ है जिसके आधार पर आधुनिक लिंग भूमिका विकसित हुआ और जिसके  फलस्वरूप एक विशाल और पेचीदा मानव समाज का निर्माण हुआ है |

समय को विश्व युधों – विष युद्ध 1 (1914-1918) और विश्व युद्ध 2 (1939-1944) – की ओर बढ़ाते हैं  जब ज़्यादातर पुरुष युद्ध में थे और स्त्रियाँ, जिन्हें घर पर छोड़ दिया गया था, उन्हें घर से बहार निकल कर  कारखानों – गोदामों में काम करने जाना पड़ा था |  युद्ध ख़त्म होने के बाद भी स्त्रियों ने कारखानों में काम करना बंद नहीं किया क्योंकि ज़्यादातर पुरुष युद्ध मर चुके थे या घायल होकर घर लौटे थे | फलतः, स्त्रोयों ने पहली बार, बड़ी तादात में, पुरुषों का काम सफलतापूर्वक किया | मानसिक – अवरोध टूट गया कि सिर्फ पुरुष ही कारखानों में या ताकत का काम कर सकते है | चिरकालीन सिधांत और सभ्यता – स्त्रियों को सिर्फ घर पर बच्चों का पोषण और खाना बनाना चाहिए – का खंडन हो गया | इसके साथ ही, पुरुषों के दोगलेपन और कट्टर अहम् का भी नग्न प्रदर्शन भी  हुआ | पुरुषों का काम करना यानी पुरुष के अहम् पर चोंट लगाने जैसा था और भला पुरुष कैसे क्रोध न होता| यह एक सामाजिक आन्दोलन था जिसने यूरोप के समाज कि छवि बदल दी – हमशे के लिए | इस आन्दोलन कि गूँज उत्तर और दक्षिण अम्रीका में भी सुनाई दी | उदहारण के रूप में, 1940  से पहले स्त्रियों को वोट देना मना था, केवल पुरुष हो वोट दे सकते थे | आधुनिक तकनीक ने मशीनों को चलाना बहुत  आसान बना दिया है जिससे कम करने में कम ताकत लगती है, अतः स्त्री और पुरुष दोनों ही कारखानों में काम कर सकते है, कर्मचारी पुरुष होना अवश्यक नहींरहा |

इंडिया का क्या हुआ ? एक मधुर बहाव इंडिया  में भी आया था जब गाँधी ने स्त्रियों को इंडिया की आजादी के लिए  पुरुषों के साथ चलने को कहा | 1990 के दशक में, जब इंडियन मार्केट को दुनिया के समक्ष खोला गया  और बाहार  की वस्तुएं इंडिया में आने लगी, रोज़गार बड़ी,  और इंडिया ने विश्व मंच में अपना महत्वहीन  स्थान पहचाना | कन्ज़ुमेर वस्तु और उपभोक्त  जीवन शैली ने इंडियन को आकर्षित किया |

अब 2010 में, मैं मानव इतहास को देखता हूँ और समझता हूँ कि स्त्रियों पर गुफावासी के दिनों से भी  ज्यादा सताया और अत्याचार किया जाता है | आज औरतों को गुणी और साझेदार समझा जाता है जब वे कमाने जाती है | मगर इसके साथ उन्हें अपनी  परिभाषित भूमिका भी निभानी पड़ती है – खाना पकाना, बच्चों का पालन-पोषण, घर को सजाना, खुद को सुन्दर रखना और जब पुरुष कान से घर लौटे तो पुरुषों की सेवा करना | जबकि,  पुरुष पहले से भी ज्यादा आलसी, ज्यादा अभिमानी, और ज्यादा असुरक्षित हो गया है | एक कॉलेज तक पड़ा, मध्यवर्गीय  पुरुष कह सकता है –

“मैं और मेरी पत्नी दोनों ही कमाते है, मैं आजे के समय के साथ चलता हूँ, अपनी पत्नी को घर से बाहार जाने देता  हूँ | मगर पत्नी मुझसे कम कमाए ताकि मेरी अहम् को चोंट न लगे. मेरी पत्नी दोसरे पुरुषों के साथ घुले-मिले नहीं क्योंकि यह मुझे असुरक्षित महसूस होता कि वोह पुरुष मुझसे शायद अच्छा है | और क्योंकि मेरी पत्नी भी कमाती है तो मुझे ज्यादा मेहनत करने की ज़रुरत नहीं और  मुझे पकोड़े और बिरयानी खिलाये | जब मैं काम से घर  लौटूं तो मेरी पत्नी सुन्दर दिखानी चाहिए, एहले से खाना बनाकर रखे और मुझे परोसे, और बिस्तर के लिए भी तैयार रहे चाहे वह भी काम से क्यों न करती हो | मेरी पत्नी पारंपरिक सिधान्तों का भी पालन करे और समय के अनुसार आधुनिक भूमिका में भी निखर कर आये | उसके अभिलाषाएं , घर के     पुरुष द्वारा निर्धारित सीमा के भीतर ही रहेगे | ”

इसी दोगलेपन के साथ आधुनिक भारतीय पुरुष और स्त्री का 2010 में स्वागत है |

Modern Indian men and Women

Since the inception of civilization, the roles of the two genders had been well-defined and their functioning is prescribed in the group of people called society. When the group becomes larger, the society then split into smaller groups called family. The roles defined were same. These roles were defined or rather prescribed which later became the norm was based on the natural occurrence – physical ability and natural inclination. Men being physically stronger by nature were fit for hunting and bringing food for the survival of the group. Women having the ability to reproduce for the continuation of the group were left behind secured. Over the time women picked the role of the nurturing and fostering the offspring. The setting was when men still lived in caves and which can be estimated to around 40,000 BC. The cave men and women roles have been the fundamental idea behind setting the roles for men and women and hence building the complex societies upon this structure over the centuries.

Fast forwarding to the World War I (1914-1918) and World War II (1939-1944), most men were in the war and the women who were left at home had to walk into the factories, out of their home, leaving behind children, and work with the machines – for the first time ever. After the end of the war, the women continued the factory work as there were not many men left and those left were severely injured. The result was for the first time ever the women in the mass scale took the job of men. The mental block that men are only fit for work was broken. The age old dogma that women should left behind to nurture kids and cook was severely shattered. It also showcased the male hypocrisy and the staunch male egoism was exposed bare naked. This was the revolution in Europe which resonated to the North and South America. Technology made possible to work with less effort, more efficiency and hence gender requirement was blurred.

What about India? A suave wave of gender role change came when Gandhi called for  women to join the freedom movement and men conceded without much hesitation. Fast forwarding to 1990s, the opening of Indian market, employment rise and western goods brought India to world front and India saw its low status at the world stage. The consumer goods and lifestyle attracted Indians. As a result, adopting the current Western daily life slowly grabbed the everyday life of the people, especially middle class.

Now in 2010, I revert back and see that the women had been further brutalized and oppressed than ever before dating back to the cave man age. Today women is appreciated to be a partner in the bread-winning but along with it she has to do the defined roles for her – cooking, caring for kids, decorating home, decorating herself and serving men when they return home after work. Men on the other hand, had been become lazier, more egoist, and more insecure. A modern educated middle class man may say-

” My wife and I both earn so I am with the time, letting my wife go work outside home. She has to earn       less than me to suit my ego. She must not mingle with other men because it would make me insecure that he is better than me (which he is). And since my wife is also working, I do not have to work harder so I came be lazy and she can cook “pakodas”, “biryani” for me. When I come back home from work she should look pretty, make and serve me food, and be ready to serve me in bed even though she worked too. She should fit in both the traditionally defined roles and the modern expectations. Her ambitions must be within the limits set by the men of the house.”

With this hypocrisy of modern Indian men and women, 2010 welcomes you.