_ife

2 02 2011

_ife

 

Broken, shattered, pointed pieces

tinkering shards – a life

 

Unthawed bleeding juicy token of flesh

sowing shreds – a life

 

Thrown down, crawling up, grappling ropes

tumultuous, carving leads – a life

 

Snatched, grabbing, recklessly loose

gluttonous lusty, threading bonds – a life

 

Sloth, dragged, limped, faltering

yet thickly textured, darkly vibrant, defiantly expressive

surviving, debauching, uncaringly vitiating

anomalous blotch, gloriously flagging existence – that very _ife

Advertisements




तो शायद सुकून मिले

24 07 2010

कुछ यादें, कुछ बातें
छोड़ जाते हैं निशाँ

लम्बे वक़्त का मरहम
मगर चुभन जाती नहीं

भूलना चाहे, तो भूल जाते
मगर वो एहसास जाता नहीं

बीते पल फिर लौट आये
साए जैसे जाग जाए
इन्हें फिर दफना दूं
तो शायद सुकून मिले

घाव खुरेदें, लघु फूंट निकले
चोंट और दर्द ताज़ा हो गए
इन्हें फिर सह जाऊं
तो शायद सुकून मिले

वक़्त की नुकीली लहरें फिर टकराई
टूट गया बाँध
इन्हें फिर से बनाऊ
तो शायद सुकून मिले

कोशिश ही सहारा
बार-बार गिरना
और बार-बार उठना, दौड़ना

इस रफ़्तार की होड़ में, भीड़ की आड़ लिए
खुद से भागना – एक बेगाना, अनजाना

अब –
उन सायो से डर नहीं लगता
उन घावों की चुभन नहीं होती
वो बाँध भी नहीं टूटती

इन कोशिशों से, अब, थकान नहीं होती
तो, अब, शायद सुकून मिले?





प्रतिबिम्ब

21 05 2010

अकेलेपन के साए सच लगते हैं
इस अंधेर कमरे में कुछ ढूँढता
एक कदम लम्बे रास्ते
चले थे एक, निकले कई

थामे वक़्त का हाथ दूर निकल आये
अरसा लगता है पल-पल
पिछड़े मोड़ पर थमे थे
न मूड़ सके हम, रुके कई

यह कैसी है जंजीरें पैरों में
लिए फिरते है सीने से लगाये
अदा बन गयी है इसकी
उठा लिए हर बार, गिराए कई





Praan प्राण প্রান

19 03 2010

Performed by Matt Harding. Music by Gary Schyman. Sung by Palbasha Siddique.

Penned by Rabindrnath Tagore. Published in his Nobel award winning book of Bengali poetry, Gitanjali, in 1910.

It took 100 years to understand this poetry and make others understand!

SING ALONG – Dedicated to my sister on her birthday and her baby

Praan

Bhulbonaar shohojete
Shei praane mon uthbe mete
Mrittu majhe dhaka ache
je ontohin praan

Bojre tomar baje bashi
She ki shohoj gaan
Shei shurete jagbo ami

Shei jhor jeno shoi anonde
Chittobinar taare
Shotto-shundu dosh digonto
Nachao je jhonkare!

– Rabindranath Tagore
The same stream of life that runs through my veins night and day runs through the world and dances in rhythmic measures. It is the same life that shoots in joy through the dust of the earth in numberless blades of grass and breaks into tumultuous waves of leaves and flowers. It is the same life that is rocked in the ocean-cradle of birth and of death, in ebb and in flow. I feel my limbs are made glorious by the touch of this world of life. And my pride is from the life-throb of ages dancing in my blood this moment.

प्राण

भुल्बोना आर शोहोजेते

शेई प्राण इ मों उठबे मेटे

मृत्तु माझे ढाका आछे

जे ओंतोहीं प्राण

बोजरे तोमार बाजे बाशी

शे की शोहोज गान

शेई शुरते जागबो आमी

शेई झोर जेनो शोई आनोंदे

चित्तोबिनार तारे

शोत्तो-शिन्धु  दश दिगोंतो

नाचाओ जे झोंकारे

– रबिन्द्रनाथ टगोर

वही जीवन की धारा जो मेरे नसों में दिन-रात दौड़ती है, इस पृथ्वी में भी दौड़ती है और ताल-लय पर नाचती है| यह वही जीवन धारा है जो धरती की मिट्टी को चीर कर अनगिनत घास के बाण बन जाती है या पत्तियों और फूलों के लहर बन जाती है | यह वही जीवन धारा है जो महासागर में है – जीवन और मरण का पलना, उतार या चडाव में | मुझे अनुभव होता है की इस जीवन धारा के स्पर्श से मेरे अंग तेजस्वी हो गए है | और मेरा अभिमान इसी जीवन धारा से है जो सदियों से धड़क रहा है और मेरे खून में अभी नाच रहा है |

প্রান

ভুলবনা আর সহজেতে

সেই প্রান এ মন উঠবে মেতে

মৃত্যু মাঝে ঢাকা আছে

যে অন্তহীন প্রান

বজ্রে তোমার বাজে বাসী

সে কি সহজ গান

সেই সুরেতে জাগবো আমি

সেই ঝর যেনো সি আনন্দে

চিত্তবিনার তারে

সত্য-সিন্ধু দশ দিগন্ত

নাচাও যে ঝঙ্কারে

–          রবীন্দ্রনাথ তাগোর